Welcome to Our Site !
+91- 8588086052
Vashikaran Service Slider Image Love Vashikaran Slider Image Black Magic Slider Image Love Problem Specialist
Menu
Lotto spells    |    Lottery Specialist    |    Love Spell Caster    |    Breakup Problem Solution Specialist    |    Vashikaran Yantra    |    100% SATISFACTION GUARANTEE    |    KAMANDALI BABA PHONE NUMBER : +91 - 7042027433

दुश्मन से बदला लेने के उपाय

बहुत-से लोगों को लगता है कि बदला लेने से कलेजे को ठंडक पहुँचती है। ऐसा महसूस करना लाज़िमी है, क्योंकि जब कोई हमारा दिल दुखाता है या किसी तरीके से हमें नुकसान पहुँचाता है, तो हम गुस्से से भड़क उठते हैं। जन्म से हमारे अंदर सही-गलत की समझ होती है और यही समझ हमें नाइंसाफी के खिलाफ आवाज़ उठाने और उसे सुधारने के लिए उभारती है। मगर सवाल उठता है, कैसे?

लोग कई तरीकों से एक-दूसरे का दिल दुखाते हैं। जैसे, थप्पड़ मारना, धक्का देना, ज़लील करना, गाली-गलौज करना, मार-पीट करना, लूटमार करना वगैरह। जब आपके साथ ऐसा कुछ होता है, तब आप कैसा महसूस करते हैं? कई लोग कहते हैं: “उसने मेरे साथ जो किया उसका मैं उसे वो मज़ा चखाऊँगा कि ज़िंदगी-भर याद रखेगा!”

कुछ बच्चों को जब उनके टीचरों ने डाँट-फटकार लगायी, तो बदला लेने के लिए उन्होंने टीचरों पर बुरा सलूक करने का झूठा इलज़ाम लगायाबदला लेने का रवैया, नौकरी-पेशे के जगत में भी आम हो चला है। कई खार खाए कर्मचारी अपने मालिक से बदला लेने के लिए कंपनी के कंप्यूटर नेटवर्क में ज़रूरी जानकारियों से छेड़खानी करते हैं या उन्हें मिटा देते हैं। दूसरे कंपनी की खुफिया जानकारी चुराकर या तो उन्हें बेच देते या दूसरों को दे देते हैं।: “अपने मालिक से बदला लेने का एक बरसों-पुराना तरीका है, कंपनी की चीज़ें चुराना।इसलिए इस समस्या से निपटने के लिए कई कंपनियाँ जब अपने किसी कर्मचारी को बरखास्त करती हैं, तो उनके साथ एक सुरक्षा अफसर तैनात करती हैं। यह अफसर उस कर्मचारी पर तब तक कड़ी नज़र रखता है, जब तक वह अपना सामान समेटकर दफ्तर से बाहर नहीं चला जाता।

लेकिन बदला लेने के ज़्यादातर मामले दोस्तों, जान-पहचानवालों और नाते-रिश्तेदारों के बीच देखने को मिलते हैं। जब कोई हमें भला-बुरा कहता है या बिना सोचे-समझे ऐसा काम करता है जिससे हमें ठेस पहुँचती है, तो हम अकसर जैसे को तैसा रवैया अपनाते हैं। अगर आपका दोस्त आपसे कड़वी बातें कहता है, तो क्या आप भी उसे दो-चार सुना देते हैं? अगर घरवालों में से कोई आपको नाराज़ करता है, तो क्या आप उससे हिसाब बराबर करने की तरकीब लड़ाते हैं? जब हमारे अपने रुखाई दिखाते हैं, तो हम कितनी आसानी से बदला लेने की सोच बैठते हैं!